Tuesday, December 9, 2014

TOOTE PHOOTE SE

कुछ पल जो छूटे, छोटेसे
कुछ खुशियाँ जो लूटे, खोटेसे
कुछ चहरे छोड़े रूठे रूठेसे
कुछ तसल्लियाँ पाली झूठे मूठेसे
कुछ ज़िन्दगी जीली टूटे फूटेसे 

No comments:

Post a Comment